शहीद दल बहादुर थापा
शहीद दल बहादुर थापा
अमर शहीद दल बहादुर का जन्म चार मार्च 1907 को हिमाचल के कांगड़ा में बढ़कोट गांव में हुआ था। दूसरे महायुद्ध के दौरान जापानियों ने 23 अगस्त 1941 को युद्ध बंदी बनाया था। इसी दौरान वह सुभाष चंद्र बोस से मिले। उनकी प्रेरणा पर 1942 में आजाद हिंद फौज में शामिल हो गए। दुर्भाग्य से 28 जून 1944 को अंग्रेजों ने इन्हें वर्मा-कोहिमा सीमा पर इन्हें युद्ध बंदी बना लिया। देशद्रोह के मुकदमे के बाद 3 मई 1945 को दिल्ली के केन्द्रीय कारागार(तिहाड़ जेल)में फांसी दे दी गई।